Months Name in Hindi and English: 12 महीनों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में

12 Months Name in Hindi and English: नमस्कार आज हम एक बार फिर आपके सवालो के जवाब के साथ वापस आ गए हैं। आज हम आपके GK के ज्ञान को और बढ़ाने के लिए 12 महीनों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में सम्पूर्ण जानकारी लेके आये है। आप जानेंगे की कैसे आप इन 12 महीनों के नाम आसानी से याद कर पाओगे।

हिंदी महीनों के नाम Months Name in Hindi

 क्र. सं.महीना का नामMonth Name
1.जनवरीJanuary
2.फरवरीFebruary
3मार्चMarch
4.अप्रैलApril
5.मईMay
6.जूनJune
7.जुलाईJuly
8.अगस्तAugust
9.सितम्बरSeptember
10.अक्टूबरOctober
11.नवम्बरNovember
12.दिसंबरDecember

महीनो के नाम हिंदी में

 क्र. सं.हिंदी महीना अंग्रेजी महीना
1.चैत्रमार्च-अप्रैल
2.वैशाखअप्रैल-मई
3ज्येष्ठमई-जून
4.आषाढ़जून-जुलाई
5.श्रावणजुलाई-अगस्त
6.भाद्रपदअगस्त-सितम्बर
7.आश्विनसितम्बर-अक्टूबर
8.कार्तिकअक्टूबर-नवम्बर
9.मार्गशीर्षनवम्बर-दिसम्बर
10.पौषदिसम्बर-जनवरी
11.माघजनवरी-फरवरी
12.फाल्गुनफरवरी-मार्च

12 हिन्दू महीनों के नाम :– 

1. चैत्र                        7. आश्विन

2. वैशाख                    8. कार्तिक

3. ज्येष्ठ                       9. मार्गशीर्ष

4. आषाढ़                    10 पौष

5. श्रावण                     11. माघ

6. भाद्रपद                    12. फाल्गुन

हिन्दू महीनों के नाम से सम्बंधित तथ्य

विक्रम संवत्:- 

 –   भारत में हिन्दू पंचांग ‘विक्रम संवत्’ पर आधारित है।

 –   विक्रम संवत् का प्रारम्भ 57 पू(B. C.) में हुआ था।

 –   इस संवत् के वर्ष का प्रारम्भ ‘चैत्र शुक्ल एकम्’ से होता है एवं समाप्ति ‘फाल्गुन अमावस्या’ को होती है।

 –   यह वर्ष ग्रिगेरियन कैलेण्डर वर्ष से 57 वर्ष आगे रहता है।

प्रत्येक माह में दो पक्ष होते हैं:–  

1.   कृष्ण पक्ष/बदी पक्ष – इस पक्ष में 15 दिन होते हैं।

–    अमावस्या अंतिम दिन।

2.   शुक्ल पक्ष/सुदी पक्ष – इस पक्ष में 15 दिन होते हैं।

–   पूर्णिमा अंतिम दिन।

–   प्रत्येक माह में 30 दिन होते हैं।

–   नव वर्ष का प्रथम माह – चैत्र

–   नव वर्ष का अंतिम माह – फाल्गुन

–   नव वर्ष का प्रथम दिन – चैत्र शुक्ल प्रतिपदा

–   नव वर्ष का अंतिम दिन – चैत्र अमावस्या

हिजरी सन् के 12 मुस्लिम माह –

1.मुहर्रम – मुल- हराम- नवम्बर  

2.सफी-उल- सफर – दिसम्बर

3.रबी –उल- अव्वल – जनवरी 

4.रबी- उलसानि – फरवरी

5.जमादि -उल -अव्वल – मार्च  

6.जमादि- उलसानि –  अप्रैल

7.रज्जब –उल- मुज्जबर – मई  

8.शाबान –उल- मुहाज्ज – जून

9.रमजान- उल -मुबारक – जुलाई                          

10.सव्वाल –उल- मुर्करम – अगस्त

11.जिल्काद – सितम्बर   

12.जिल्हिज –  अक्टूबर

मोहर्रम:– यह इस्लामी वर्ष यानी हिजरी संवत् का पहला महीना है।

इसे ‘अल्लाह का महीना’ भी कहा जाता है।इस माह में हजरत मोहम्मद साहब के नवासे हजरत इमाम हुसैन और उनके 72 अनुयायियों ने सत्य और इंसाफ के लिए यजदी की फौज से लड़ते हुए कर्बला के मैदान में शहादत पायी थी लेकिन धर्म विरोधियों के आगे सिर नहीं झुकाया था। उसी की याद में मोहर्रम माह की 10 तारीख को यह त्योहार मनाया जाता है।

हिजरी संवत् :-

हिजरी संवत् चन्द्रमा पर आधारित होता है।

हिजरी संवत् का पहला महीना मुहर्रम तथा अंतिम महीना जिल्हिज होता है।

12 महीनों से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य

राष्ट्रीय पंचांग :- 

  • भारत का राष्ट्रीय पंचांग ‘शक संवत्’ पर आधारित है।
  • ग्रिगेरियन कैलेण्डर का आधार भी ‘शक संवत्’ ही है।
  • शक संवत् का पहला महीना ‘चैत्र’ का एवं अंतिम महीना ‘फाल्गुन’ का होता है।
  • भारतीय संविधान ने शक संवत् को राष्ट्रीय पंचांग के रूप में ’22 मार्च, 1957’ को अपनाया था।
  • सामान्यत: चैत्र माह का पहला दिन, 22 मार्च को होता है, यदि अधिवर्ष है तो 21 मार्च को होता है, लेकिन हमेशा ही ऐसा हो, यह आवश्यक नहीं है।

शक संवत्:-

 –   शक संवत् का प्रारम्भ 78 ई. (78A.D.) में कुषाण शासक कनिष्क के काल में हुआ था।

 –   यह ग्रिगेरियन कैलेण्डर से 78 वर्ष पीछे रहता है।

प्रमुख त्योहार

पूर्णिमा के दिन आने वाले पर्व :-

1. चैत्र पूर्णिमा – हनुमान जयंती।

2. वैशाख पूर्णिमा – पीपल पूर्णिमा एवं बुद्ध पूर्णिमा।          

3. ज्येष्ठ पूर्णिमा – वट सावित्री व्रत।

4. आषाढ़ पूर्णिमा – गुरु पूर्णिमा एवं कबीर जयंती।           

5. श्रावण पूर्णिमा – रक्षाबन्धन एवं नारियल पूर्णिमा।

6. भाद्रपद पूर्णिमा – उमा महेश्वर व्रत एवं श्राद्ध पक्ष का आरम्भ।       

7. आश्विन पूर्णिमा – शरद पूर्णिमा।                   

8. कार्तिक पूर्णिमा – त्रिपुर पूर्णिमा एवं गुरुनानक जयंती।

9. मार्गशीर्ष पूर्णिमा – मानगढ़ धाम पर्व एवं दतात्रेय जयंती।

10. पौष पूर्णिमा – शाकंभरी जयंती।

11. माघ पूर्णिमा – बेणेश्वर पर्व एवं भैरव जयंती।

12. फाल्गुन पूर्णिमा – होलिका पर्व।

अमावस्या के दिन आने वाले पर्व:-

1. श्रावण अमावस्या – हरियाली अमावस्या

2. भाद्रपद अमावस्या – सतिया अमावस्या

3. आश्विन अमावस्या – श्राद्ध पक्ष का समापन

4. कार्तिक अमावस्या – दीपावली का पर्व

5. माघ अमावस्या – मौनी अमावस्या

नवरात्र पर्व:–  

–   ‘नवरात्र’ वर्ष में चार बार आते हैं।

–   दो शक्तिपीठ नवरात्र होते हैं अर्थात् देवियों को समर्पित होते हैं।

–   दो गुप्त नवरात्र होते हैं अर्थात् तांत्रिकों को समर्पित होते हैं।

शक्तिपीठ/देवियों को समर्पित नवरात्र : –  

–   इन नवरात्रों में 9 दिनों तक व्रत किया जाता हैं तथा मां दुर्गा के 9 रूपों की पूजा की जाती हैं।

1.   चैत्र नवरात्र/बसन्तीय नवरात्र – चैत्र शुक्ल एकम् से चैत्र शुक्ल नवमी तक।

2.   आश्विन नवरात्रा/शारदीय नवरात्र – आश्विन शुक्ल एकम् से आश्विन शुक्ल नवमी तक।

गुप्त नवरात्रा/तांत्रिक नवरात्र : –

–   यह नवरात्र, तांत्रिकों को समर्पित होते हैं तथा तन्त्रों एवं मन्त्रों की उपासना करते हैं।

1.   आषाढ नवरात्र – आषाढ शुक्ल एकम्  से आषाढ़ शुक्ल नवमी तक।

2.   माघ नवरात्र – माघ शुक्ल एकम् से माघ शुक्ल नवमी तक।

Faq

हिंदी के 12 महीने कौन कौन से हैं?

चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, पौष, माघ और फाल्गुन.

1 से 12 महीने के नाम क्या हैं?

जनवरी, फरवरी, मार्च, अप्रैल, मई, जून, जुलाई, अगस्त, सितंबर, अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर

हिंदी में कितने महीने होते हैं?

12

सभी 12 महीनों का नाम क्या है?

चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्ष, पौष, माघ और फाल्गुन.

इंग्लिश कैलेंडर का नाम क्या है?

ग्रेगोरियन कैलेंडर

अन्य अध्ययन सामग्री

वृद्धि संधि के उदाहरण : परिभाषा, प्रकार, नियम [Vriddhi Sandhi ke Udaharan]

दीर्घ संधि किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार, 100+ उदाहरण Dirgh Sandhi

नमस्ते- मेरा नाम मनोज चौधरी है। मैं बिजनेस और फाइनेंस जगत का शौकीन लेखक हूं। मैने फाइनेंस के क्षेत्र में काम करने का शौक रखते हुए, मैंने अपना करियर उन खबरों को कवर करने और लेखों के माध्यम से दुनिया भर के दर्शकों तक अपनी राय पहुंचाने के लिए समर्पित किया है। मैं अपने दर्शकों तक बिजनेस एवं फाइनेंस की दुनिया से नवीनतम समाचार और विशेष जानकारी लाने के लिए अथक प्रयास करता हूं। और अब से मैं AarambhTV.com में लेखक के रूप में काम कर रहा हूं।

Leave a Comment