मानव हृदय की संरचना एवं कार्य | PDF नोट्स इन हिंदी

मानव हृदय की संरचना एवं कार्य

  • सबसे व्यस्त मानव अंग हृदय है।
  • विश्व में पहला हृदय प्रत्यारोपण डॉ. क्रिस्टियन बर्नाड द्वारा किया गया था सर्वप्रथम कृत्रिम हृदय का प्रयोग (शल्य चिकित्सा के दौरान) माइकेल डी बाने ने किया था।
  • पेस-मेकर हृदय की धड़कन को नियंत्रित करता है।
  • स्वस्थ व्यक्ति की हृदय धड़कन 72 बार प्रति मिनट होती है।
  • हृदय की ध्वनियाँ (लब, डब) को स्टेथोस्कोप से सुना जा सकता है।
  • धमनियां शुद्ध रक्त या ऑक्सीकृत रक्त को हृदय से विभिन्न अंगों तक ले जाती है। इनमें कपाट का अभाव, दीवार मोटी व रक्त लाल होता है।
  • शिरा अशुद्ध रक्त या अनाक्सीकृत रक्त को विभिन्न अंगों से हृदय तक लाती है। इनमें कपाट होते हैं, दीवार पतली होती है एवं रक्त बैगनी होता है।
  • फुफ्फुसीय धमनी में अशुद्ध रक्त एवं फुफ्फसीय शिरा में शुद्ध रक्त बहता है।
  • हृदय के बांये आलिन्द एवं निलय में शुद्ध रक्त तथा दांये आलिन्द एवं निलय में अशुद्ध रक्त बहता है।
  • रक्तदान के समय रक्त शिराओं में से ही लिया जाता है एवं शिराओं में ही डाला जाता है।
  • हृदय एक धड़कन में लगभग 70 मि.ली. रूधिर पम्प करता है।
  • ECG हृदय से सम्बन्धित है जो हृदय की गति का मापन करती है।
  • अम्लीयता हृदय की गति को अधिक एवं क्षारीयता हृदय की गति को कम करती है।
  • सामान्य व्यक्ति के हृदय का वजन लगभग 350 ग्राम होता है।
  • हृदय की रक्त पम्प करने की क्षमता 4.5 लीटर प्रति मिनट होती है।
मानव हृदय की सरंचना एंव कार्य
यह भी पढ़े -

श्वसन तंत्र के प्रकार(Types of Respiratory system) In Hindi

मानव हृदय की संरचना एवं कार्य
SOURCE