संज्ञा की परिभाषा और संज्ञा के भेद व प्रकार, गुण Sangya ki Paribhasha in Hindi

0

इस लेख में हम हिंदी व्याकरण के मुख्य अध्याय संज्ञा (Sangya in Hindi) के बारे में पढ़ेंगे। यहाँ पर संज्ञा से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी दी गयी है जैसे :-
संज्ञा किसे कहते हैं? संज्ञा की परिभाषा (sangya ki paribhasha) , संज्ञा के भेद/प्रकार (Sangya ke Bhed) एंव संज्ञा के उदाहरण इत्यादि के बारे में बताया गया है।
विभिन सवालो जैसे संज्ञा किसे कहते हैं? (What is Sangya in Hindi) इत्यादि का जवाब देने का प्रयास किया गया है।


संज्ञा किसे कहते हैं ? (Sangya in Hindi)

संज्ञा शब्द, ‘सम् + ज्ञा’ के योग से बना है, जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘सम्यक या संपूर्ण ज्ञान कराने वाला जबकि संज्ञा शब्द या शाब्दिक अर्थ है ‘नाम’ ।

संज्ञा किसे कहते हैं ? संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद What is Sangya in Hindi
संज्ञा की परिभाषा

साधारण शब्दों में ‘नाम’ को ही संज्ञा कहते है, जैसे ‘राम ने आगरा में ताजमहल की सुंदरता देखी।’
इस वाक्य में हम पाते है की ‘राम’ एक व्यक्ति का नाम है, आगरा स्थान का नाम है, ताजमहल एक वस्तु का नाम है तथा ‘सुंदरता’ एक गुण का नाम है।
इस प्रकार ये चारो क्रमश: व्यक्ति, स्थान, वस्तु और भाव के नाम है। अतः ये चारो संज्ञाए हुई।


संज्ञा की परिभाषा (Sangya Ki Paribhasha in Hindi) :-

संज्ञा की परिभाषा (sangya ki paribhasha) :- किसी प्राणी, वस्तु, स्थान, भाव, अवस्था, गुण या दशा के नाम को संज्ञा (Noun) कहते हैं। वस्तु से किसी पदार्थ का भाव ही नहीं, उनके धर्म(स्वभाव) को सूचित करने वाले शब्द भी ‘संज्ञा’ होते है।
जैसे :- हिमालय, गाय,मिठास, जयपुर आदि।


संज्ञा के भेद/ प्रकार (Sangya ke Bhed In Hindi)

जब हम संज्ञा के विषय में पढ़ते हैं तो हमारे मन में एक प्रश्न होता है की संज्ञा के कितने भेद/ प्रकार होते हैं।

सामान्यता प्रयोग के आधार पर संज्ञा के तीन भेद होते हैं। और अर्थ के आधार पर 5, यह अन्य
दो भेद जातिवाचक संज्ञा के उपभेद होते हैं।

प्रयोग के आधार पर संज्ञा के भेद/ प्रकार (Sangya ke Bhed) :-

(1) व्यक्तिवाचक संज्ञा

(2) जातिवाचक संज्ञा

(3) भाववाचक संज्ञा

अर्थ के आधार पर संज्ञा के भेद/ प्रकार (Sangya ke Bhed) :-

(4) समूहवाचक संज्ञा

(5) द्रव्यवाचक संज्ञा

Note :- यह दोनों जातिवाचक संज्ञा के उपभेद हैं।


1. व्यक्तिवाचक संज्ञा (vyakti vachak sangya In Hindi) :-

व्यक्तिवाचक संज्ञा की परिभाषा :-
जो शब्द किसी विशेष व्यक्ति, वस्तु, स्थान तथा प्राणी के नाम का बोध कराते हैं, उन्हें व्यक्ति वाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे- मोहन, राजेश, दिनेश, कमल, जयपुर, ताजमहल, रामायण, चेतक, गंगा, हिमालय इत्यादि।
व्यक्तिवाचक संज्ञा, ‘विशेष’ बोध कराती है ‘सामान्य’ का नहीं।

व्यक्तिवाचक संज्ञा में सम्मिलित शब्द निम्न हैं-

  • स्त्री- पुरुषों के नाम – राधा, गोविंद, रमेश, पार्वती आदि।
  • देवी-देवताओं के नाम – शिव, विष्णु, पार्वती, लक्ष्मी आदि।
  • देशों के नाम – भारत, पाकिस्तान, चीन, नेपाल आदि।
  • राज्यों के नाम – राजस्थान, गुजरात, पंजाब आदि।
  • खाड़ी एवं झीलों के नाम – बंगाल की खाड़ी, नक्की झील आदि।
  • महाद्वीप के नाम – एशिया, यूरोप आदि।
  • एतिहासिक दरवाजे एवं खिड़कियों के नाम – इंडिया गेट, अजमेरी गेट, सांगानेरी गेट, बीचली खिड़की आदि।
  • दुर्ग एवं किलो के नाम – रणथम्भौर दुर्ग, चित्तौड़ दुर्ग, चुरू का किला आदि।
  • भाषाओं के नाम – हिंदी, अंग्रेजी, मराठी आदि।
  • उपाधि एवं पुरस्कारों के नाम – डॉक्टर सर, गार्गी, अर्जुन आदि।
  • सरकारी योजनाओं के नाम – जन – धन योजना आदि।
  • खेलों के नाम – क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल आदि।
  • जिले, तहसील, गाँव के नाम – जयपुर, टोंक, मालपुरा आदि।
  • पठार एवं मैदानों के नाम – हाड़ौती का पठार, छप्पन का मैदान आदि।
  • दिशाओं के नाम – पूर्व-पश्चिम-उत्तर-दक्षिण आदि।
  • नदियों के नाम – गंगा, यमुना, चम्बल आदि।
  • पहाड़ों के नाम – अरावली, हिमालय आदि।
  • समाचार पत्रों के नाम – दैनिक भास्कर, पत्रिका आदि।
  • चौकों के नाम – चाँदनी चौक आदि।
  • त्योहारों के नाम – दीपावली, होली आदि।
  • ऐतिहासिक युद्धो के नाम – बक्सर का युद्ध, हल्दीघाटी का युद्ध

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण (vyakti vachak sangya examples in hindi)

  • राम स्कुल जाता है।
  • सिमा खेल रही है।
  • रामु पढ़ रहा है।
  • गोविन्द जा रहा है।
  • श्याम ने खाना खा लिया।

व्यक्तिवाचक संज्ञा के बारे में विस्तार पूर्वक पढ़े ! क्लिक करे

2. जातिवाचक संज्ञा (Jati vachak sangya ki Paribhasha) :-

जातिवाचक संज्ञा की परिभाषा (Jati vachak sangya ki Paribhasha) :-
जिन संज्ञा शब्द से किसी जाती (वर्ग) के सम्पूर्ण प्राणियों, वस्तुओं, स्थानों, आदि का बोध होता है,
उसे ‘जातिवाचक संज्ञा (Common noun in Hindi)’ कहते है।
प्राय: जाति वाचक संज्ञा में वस्तुओ, पशु-पक्षिओ, फल-फूल, धातुओं, व्यवसाय सम्बन्धी व्यक्तियों, नगर, शहर, गाँव, परिवार,
भीड़ जैसे बहुवाची शब्दों के नाम आते है।

जातिवाचक संज्ञा में सम्मिलित शब्द निम्न हैं-

  • पशु पक्षियों के नाम – तोता, चिड़िया, कबूतर आदि।
  • पेड़ो एवं फलों के नाम – आम, पपीता, केला, पीपल आदि।
  • दैनिक उपयोगी वस्तुएँ – कुर्सी, घड़ी, कलम आदि।
  • प्राकृतिक आपदाओं के नाम – आँधी, तुफान आदि।
  • शरीर के अंगो के नाम – नाक, कान आदि।
  • सामाजिक संबंधो के नाम – भाई, बहन आदि।
  • पदों के नाम – मंत्री, प्रोफेसर आदि।
  • संपूर्ण वर्ग या जाति का नाम – नगर, देश, पहाड़ आदि।

विशेष-

विशेष अर्थ में एवं तुलनात्मक प्रयोग होने पर जातिवाचक अथवा अन्य संज्ञाएं व्यक्तिवाचक में बदल जाती है।
गोसाई –
गायों का स्वामी (जातिवाचक), तुलसीदास (व्यक्तिवाचक)

बहुव्रीहि समास के उदाहरण व्यक्तिवाचक संज्ञा हैं-
गाय – जातिवाचक संज्ञा गोरा गाय – व्यक्तिवाचक संज्ञा।
घोड़ा – जातिवाचक संज्ञा चेतक घोड़ा – व्यक्तिवाचक संज्ञा

जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण (Jati vachak sangya Examples In Hindi)

  • मैदान में बच्चे खेलते है।
  • विधालय में बच्चे पढ़ते है।
  • बस में सवारी बैठी है।
  • तालाब में मछलिया तैर रही है।
  • पेड़ पर पक्षी बैठे है।

जातिवाचक संज्ञा के उपभेद –

(i) समूहवाचक/समुदायवाचक संज्ञा (Samuh Vachak Sangya in Hindi) :-

Samuh Vachak Sangya Ki Paribhasha :-

जिस संज्ञा शब्द से किसी झुंड, समूह या समुदाय का बोध हों, उसे समुहवाचक या समुदायवाचक संज्ञा कहते हैं।
जैसे- पुलिस, संघ, सेना, झुण्ड, वर्ग, परिवार, गुलदस्ता, दरबार, समिति, आयोग, कुंज, आगार इत्यादि।

समूह वाचक संज्ञा के उदाहरण (Samuh Vachak Sangya examples in Hindi)

जैसे – प्राणियों का समूह (सजीव) सभा, दल, गिरोह, झुण्ड,परिवार आदि।
पदार्थों का समूह (निर्जीव) ढ़ेर, गुच्छा गट्‌ठर आदि।

  • बहुत से छात्र गांव से है।
  • भारतीय सेना विश्व की सर्वश्रेष्ठ सेना है।
  • जगल में मौर का एक झुण्ड है।

(ii) द्रव्यवाचक संज्ञा (drvy Vachak Sangya Ki Paribhasha in Hindi) :-

द्रव्यवाचक संज्ञा की परिभाषा :-

किसी धातु, पदार्थ, द्रव आदि का बोध हो, द्रव्यवाचक संज्ञा कहलाती है; जैसे- लोहा, सोना, चाँदी, तेल, घी, पानी, दूध, चीनी, अन्न आदि।
अन्य परिभाषा – नापतौल के पदार्थों अथवा वस्तुओं का बोध कराने वाली संज्ञा, द्रव्यवाची संज्ञा होती है।
जैसे – धातु व खनिज पदार्थ – सोना, चाँदी, ताँबा, डीजल,पेट्रोल आदि।
– खाद्य पदार्थ – दूध, दही, छाछ आदि।


3. भाववाचक संज्ञा (Bhav Vachak Sangya In Hindi)

भाववाचक संज्ञा की परिभाषा (Bhav Vachak Sangya ki Paribhasha) :-

जिस संज्ञा शब्द से प्राणियों या वस्तुओ से गुण, धर्म, दशा, कार्य, मनोभाव आदि का बोध हो , उसे भाववाचक संज्ञा (Abstract noun in Hindi) कहते है।
प्राय: गुण-दोष, अवस्था, व्यापार, अमूर्त्तभाव, तथा भाववाचक संज्ञा के अंतगर्त आते है।

भाववाचक संज्ञा के उदाहरण ( Bhav vachak sangya examples in hindi)

  • ज्यादा खाने से आलस आता है।
  • ज्यादा दौड़ने से थकान आती है।
  • कम सोने से सरदर्द करता है।

भाववाचक संज्ञा की रचना मुख्य पांच प्रकार के शब्दों से होती है-
(1) जातिवाचक संज्ञा से (2) सर्वनाम से
(3) विशेषण से (4) क्रिया से (5) अवयव से

जातिवाचक संज्ञा से :-

जातिवाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा
शिशु शैशव, शिशुता
विद्वान् विदवता
मित्र मित्रता
पुरुष पुरुषत्व
सती सतीत्व
लड़का लड़कपन
बच्चा बचपन
इंसान इंसानियत
दानव दानवता
बूढ़ा बुढ़ापा
Sangya ki Paribhasha

सर्वनाम से :-

सर्वनाम भाववाचक संज्ञा
मम ममता
स्व स्वत्व
आप आपा
सर्व सर्वस्व
निज निजत्व
अपना अपनापन / अपनत्व

विशेषण से :-

विशेषण भाववाचक संज्ञा
कठोर कठोरता
विधवा वैधव्य
चालाक चालाकी
शिष्ट शिष्टता
नम्र नम्रता
मोटा मोटापा
मीठा मिठास
सरल सरलता
चतुर चतुराई
सहायक सहायता
Sangya ki Paribhasha

क्रिया से :-

क्रिया भाववाचक संज्ञा
सुनना सुनवाई
गिरना गिरावट
चलना चाल
कमाना कमाई
बैठना बैठक
पहचानना पहचान
खेलना खेल
जीना जीवन
चमकना चमक
लिखना लिखावट

अव्यय से :-

अव्यय भाव वाचक संज्ञा
दूर दुरी
ऊपर ऊपरी
धिक् धिक्कार
शीघ्र शीघ्रता
मना मनाही
निकट निकटता
निचे निचाई
समीप सामीप्य
Sangya ki Paribhasha

संज्ञा के विशेष नियम :-

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा का कोई शब्द जब अपने साथ अन्य नाम का बोध कराता है, तो उस अन्य नाम में जातिवाचक संज्ञा होगी। जैसे –
    सीता हमारे घर की लक्ष्मी है।
    कालिदास को भारत का शेक्सपियर कहते हैं।
  2. जातिवाचक संज्ञा का कोई शब्द जब किसी व्यक्ति विशेष के अर्थ में रूढ़ हो जाता है तो वहाँ व्यक्तिवाचक संज्ञा होती है।गाँधी गाँधीजी ने देश को सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ाया।
    मोदी – मोदीजी एक मित्व्ययी प्रशासक है।
    यहाँ गाँधी के अंतर्गत :- कमरचन्द्र गाँधी, राजीव गाँधी, राहुल गाँधी, महात्मा गाँधी आदि शब्द हाते है अर्थात जातिवाचक संज्ञा है, इसी प्रकार मोदी के अनतर्गत – ललित मोदी, नीरव मोदी, नरेन्द्र मोदी, दामोदर दास मोदी, आदि आते हैं, परन्तु उक्त उदाहरणों में ‘गाँधी’ का प्रयोग, ‘मोहनदास करमचन्द गाँधी’ (महात्मा गाँधी) एवं ‘मोदी’ का प्रयोग ‘नरेद्र मोदी’ (प्रधानमंत्री) हेतु हुआ है जो व्यक्तिवाचक संज्ञा है।
  3. भाववाचक संज्ञा और विशेषण हमेशा एक वचन में प्रयुक्त किए जाते हैं, जैसे ही इनको बहुवचन में प्रयुक्त किया जाता है तो वहाँ जातिवाचक संज्ञा होती है जैसे –
    मूर्खों से बहस नहीं करनी चाहिए।
    गरीबों की मदद करनी चाहिए।
    बड़ो का सम्मान करना चाहिए।
  4. व्यक्तिवाचक संज्ञा- विशेष – व्यक्तिवाचक संज्ञा का प्रयोग हमेशा एकवचन में किया जाता है, अर्थात् ऐसे एकवचन में किया जाता है, जिसका बहुवचन न बनाया जा सके।
  5. जातिवाचक संज्ञा- विशेष – जातिवाचक संज्ञा का प्रयोग हमेशा बहुवचन में किया जाता है, अर्थात् ऐसे एकवचन में किया जाता है, जिसका बहुवचन बनाया जा सके।

संज्ञा की पहचान के विशेष नियम –

1.व्यक्तिवाचक संज्ञा का कोई शब्द जब अपने साथ अन्य नाम का बोध कराता है तो उस अन्य नाम में जातिवाचक संज्ञा होती है-

2. जातिवाचक संज्ञा का कोई शब्द जब किसी व्यक्ति विशेष के अर्थ में रूढ़ हो जाता है तो वहाँ व्यक्तिवाचक संज्ञा होती है – जैसे
मोदी – मोदी जी ने देश को अलग पहचान दिलाई।
शास्त्री – शास्त्री जी एक महान व्यक्ति थे।

3. भाववाचक संज्ञा का प्रयोग हमेशा एकवचन में किया जाता है, बहुवचन में प्रयोग होते ही भाववाचक संज्ञा जातिवाचक संज्ञा का रूप धारण कर लेती है-

संज्ञा किसे कहते हैं ? संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद What is Sangya in Hindi | sangya ki paribhasha | sangya kise kahate hain (Noun) Bhed
Sangya ki Paribhasha

4. यदि किसी विशेषण को बहुवचन में प्रयोग कर दिया जाता है, तो वहाँ जातिवाचक संज्ञा होती हैं-

विशेष – व्यक्तिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा का निर्माण नहीं किया जाता बल्कि वह विशेषण होता है-


-: संज्ञा किसे कहते हैं से संबंधित महत्वपूर्ण लेख :-

(1) Upsarg in Hindi | उपसर्ग किसे कहते है ? परिभाषा , भेद , उदाहरण
(2) Vyanjan Sandhi | व्यंजन संधि किसे कहते है ? व्यंजन संधि के उदाहरण, भेद, परिभाषा
(3) Swar Sandhi In Hindi : स्वर संधि किसे है ? स्वर संधि के भेद , उदाहरण

-: महत्वपूर्ण प्रश्न sangya in hindi worksheets :-

Q1. निम्नलिखित में से किस विकल्प में जातिवाचक संज्ञा नहीं है?
(A) लोहा
(B) लड़की
(C) शैशव
(D) पुस्तक

उत्तर :- (A)

Q2. निम्नलिखित में से किस विकल्प में सभी शब्द भाववाचक संज्ञाएँ हैं –

(A) मिलाप, स्वत्व, सेवा
(B) अपनापन, बूढ़ापा, वृक्ष
(C) उदासी, शेर, चालाकी
(D) यौवन, अपना, बुनना

उत्तर :- (A)

Q3. ‘कुंज’ में कौन-सी संज्ञा है?

(A) जातिवाचक
(B) द्रव्यवाचक
(C) व्यक्तिवाचक
(D) समूहवाचक

उत्तर :- (D)

Q4. निम्नलिखित में से किस विकल्प में जातिवाचक संज्ञा नहीं हैं –

(A) पंखा
(B) पर्वत
(C) हिमालय
(D) गाय

उत्तर :- (C)

Q5. गुलाब फूलों में श्रेष्ठ है। रेखाकित पद में संज्ञा है –

(A) भाववाचक
(B) जातिवाचक
(C) व्यक्तिवाचक
(D) समूहवाचक

उत्तर :- (B)

Q6. आज कल हर शहर में रावण पैदा हो रहे हैं। रेखांकित पद में संज्ञा है –

(A) जातिवाचक
(B) व्यक्तिवाचक
(C) भाववाचक
(D) उपर्युक्त् में से कोई नहीं

उत्तर :- (A)

Q7. ‘हरियाली’ शब्द में संज्ञा है –

(A) समूहवाचक
(B) जातिवाचक
(C) व्यक्तिवाचक
(D) भाववाचक

उत्तर :- (D)

Q8. ‘घी’ शब्द में कौन-सी संज्ञा है?

(A) व्यक्तिवाचक संज्ञा
(B) भाववाचक संज्ञा
(C) द्रव्यवाचक संज्ञा
(D) समूहवाचक संज्ञा

उत्तर :- (C)

Q9. निम्नलिखित में से किस विकल्प में भाववाचक संज्ञा नहीं है?

(A) खटास
(B) यौवन
(C) ठगी
(D) ऐरावत

उत्तर :- (D)

Q10. ‘कोयला’ शब्द में संज्ञा है-

(A) जातिवाचक संज्ञा
(B) भाववाचक संज्ञा
(C) व्यक्तिवाचक संज्ञा
(D) द्रव्यवाचक संज्ञा

उत्तर :- (A)

English Grammar Version

What is Noun | Definiton & Types Of Noun In Hindi


संज्ञा की परिभाषा sangya ki paribhasha Faq

संज्ञा की परिभाषा क्या होती है?

किसी प्राणी, वस्तु, स्थान, भाव, अवस्था, गुण या दशा के नाम को संज्ञा (Noun) कहते हैं। वस्तु से किसी पदार्थ का भाव ही नहीं, उनके धर्म(स्वभाव) को सूचित करने वाले शब्द भी ‘संज्ञा’ होते है।

संज्ञा से आप क्या समझते हैं?

संज्ञा शब्द, ‘सम् + ज्ञा’ के योग से बना है, जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘सम्यक या संपूर्ण ज्ञान कराने वाला जबकि संज्ञा शब्द या शाब्दिक अर्थ है ‘नाम’ ।

संज्ञा किसे कहते हैं उसके कितने प्रकार हैं?

साधारण शब्दों में ‘नाम’ को ही संज्ञा कहते है, जैसे ‘राम ने आगरा में ताजमहल की सुंदरता देखी।

भोजन कौन सी संज्ञा है?

जातिवाचक

इस लेख में संज्ञा किसे कहते हैं ? संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद What is Sangya in Hindi | sangya ki paribhasha | sangya kise kahate hain (Noun) Bhed के बारे में बताया गया यदि आपको यह लेख पसंद आता है तो मित्रो के साथ शेयर करे।