विलयन किसे कहते हैं? विलयन के प्रकार, गुण Solution in Hindi

0

इस लेख में हम विलयन (Solution) के बारे में पढ़ेंगे। विलयन किसे कहते हैं? विलयन के प्रकार, विलयन के गुण, विलयन की परिभाषा, उदाहरण, अर्थ इत्यादि के विषय में विस्तार से जानेंगे।

विलयन किसे कहते हैं?

दो या दो से अधिक पदार्थों के मिलने से बने समांगी मिश्रण को विलयन कहते हैं।

विलयन के अवयवों के संघटन को निश्चित सीमा तक परिवर्तित किया जा सकता है। विलयन के अवयवों को किसी यांत्रिक विधि द्वारा अलग नहीं किया जा सकता है।

यदि विलयन में दो अवयव हो तो उसे द्विअंगी और यदि तीन अवयव हो तो उसे त्रिअंगी विलयन कहते है।

उदाहरण :- नमक का जलीय विलयन

विलयन का अर्थ :-

विलयन = विलायक + विलेय

विलयन की परिभाषा :-

दो या दो से अधिक अभिक्रिया नहीं करने वाले पदार्थों के मिलाए जाने पर जो समांगी मिश्रण बनता है, विलयन कहलाता है।


विलयन के अवयव/ घटक (भाग)

किसी भी विलयन को बनाने के लिए उसमे पदार्थ अवयव के रूप में मिले या घुले हुवे होते है। प्रत्येक विलयन में दो अवयव/ घटक होते है। विलायक और विलेय नाम से जाना जाता है।

विलायक (Solvent) :-

विलायक किसे कहते हैं :- विलयन का वह घटक जिसकी मात्रा अधिक हो तथा दूसरे घटक को Vilyan में घोलता है। अर्थात विलेय को जिसमे घोला जाता है। उसे विलायक कहते है। इसकी मात्रा सामन्यता विलेय से अधिक होती है।

विलेय (Solute) :-

विलेय किसे कहते हैं :-

Vilayan का वह घटक जो कम मात्रा में होता है और विलायक में घुला हुआ हुआ होता है। विलेय कहते है।

उदाहरण :-

1) चीनी और जल :- चीनी और जल के विलयन में जल विलायक है और चीनी विलेय जो जल में घुली हुई होती है।

2) सोडा जल :- सोडा जल में जल के अंदर कार्बन डाई ऑक्साइड घुली हुई होती है।

3) वायु गैस :- पृथ्वी के वातावरण में उपस्थित वायु बहुत सी गैसों का विलयन है। जैसे ऑक्सीजन, नाइट्रोजन, हाइड्रोजन इत्यादि


विलयन के प्रकार (Types of Solutions)

(A) विलयन की भौतिक अवस्था के आधार पर विलयन के प्रकार :-

विलायक या विलेय, गैस, द्रव या ठोस कोई भी हो सकता है। अतः इन तीनो को आधार मान कर विलयन का वर्गीकरण निम्न प्रकार है :-

1. गैसीय विलयन (Gas Solution) :-

इस प्रकार के विलयन में विलेय तथा विलायक दोनो ही गैस अवस्था में होते है, तथा ये प्रत्येक अनुपात में आपस में मिल जाते है। गैसीय विलयनो में घटक के अणु स्वतंत्र रूप से विचरण करते है।

जैसे :- वायु

2. द्रव विलयन (Liquid Solution) :-

इस प्रकार के विलयन में विलेय गैस, द्रव या ठोस के होता है, जबकि विलायक द्रव होता है।

जब जल को विलायक के रूप में काम लेते है तो ऐसे Viliyan को द्रव विलयन कहते है।

उदाहरण :-

जल व शर्करा

3. ठोस विलयन (Solid Solution) :-

इस प्रकार के Vilayan में विलेय गैस, द्रव या ठोस होता है परंतु विलायक ठोस होता है।

(B) विलेय की मात्रा की आधार पर

1. तनु विलयन :-

तनु विलयन क्या है :- जिस विलयन में विलेय की मात्रा विलायक की तुलना में बहुत कम हो , तनु विलयन कहलाता है।

2. सांद्र विलयन :-

सांद्र विलयन किसे कहते हैं :- जिस विलयन में विलेय की मात्रा विलायक की मात्रा की तुलना में अधिक हो, सांद्र विलयन कहते है।

3. संतृप्त विलयन :-

संतृप्त विलयन क्या है :- संतृप्त विलयन से तात्पर्य है किसी निश्चित ताप पर उतना ही विलेय घुल सकता है जितनी की विलयन की क्षमता होती है। अर्थात निश्चित ताप पर यदि विलयन में विलेय पदार्थ नहीं घुलता है तो उसे संतृप्त विलयन कहते है।

4. असंतृप्त विलयन :-

यदि किसी विलयन में विलेय पदार्थ की मात्रा संतृप्ता से कम हो तो उसे असंतृप्त विलयन कहते है।
अर्थात निश्चित ताप पर एक ऐसी स्थिति जिसमे विलयन के घटक
विलायक में विलेय पदार्थ की और अधिक मात्रा नहीं घोली जा सकती असंतृप्त विलयन कहलाता है।


विलयन के गुण

रसायन विज्ञान का दैनिक जीवन में विभिन प्रकार से उपयोग होता। यहाँ पर विलयन के गुणों के बारे में बतया गया है :-

  • विलयन स्मान्यता एक समांगी मिश्रण होता है।
  • Vilyan के कणो का आकर अर्थात व्यास 1nm से भी कम होते है।
  • प्रकाश का मार्ग दृष्टिगोचर नहीं होता अर्थात विलयन में प्रकाश का मार्ग दिखाई नहीं देता है।
  • विलयन की प्रावस्था नियत रहती है।
  • Vilyan के भौतिक कणों को विभिन्न प्रकार की भौतिक विधियों द्वारा पृथक नही किया जा सकता है।
  • विलयन के गुण-धर्म घटकों के गुणधर्म पर निर्भर करते है अर्थात
    घटकों के गुणधर्म ही विलयन के गुण-धर्म है।

विलयन की सांद्रता :-

Vilayan में मौजूद विलेय पदार्थ की मात्रा के आधार पर विलयन की सांद्रता को मापा जाता है।

विलयन की सांद्रता किसे कहते हैं ? :-

विलायक की मात्रा में घुले हुवे विलेय पदार्थ की मात्रा को विलयन की सांद्रता कहते है।

संतृप्त विलयन :-

संतृप्त विलयन से तात्पर्य है किसी निश्चित ताप पर उतना ही विलेय घुल सकता है जितनी की विलयन की क्षमता होती है। अर्थात निश्चित ताप पर यदि विलयन में विलेय पदार्थ नहीं घुलता है तो उसे संतृप्त विलयन कहते है।

असंतृप्त विलयन :-

यदि किसी विलयन में विलेय पदार्थ की मात्रा संतृप्ता से कम हो तो उसे असंतृप्त विलयन कहते है।

(i) भार प्रतिशत (w/w)-

100 ग्राम विलयन में घुले हुए विलेय की ग्रामों में मात्रा विलयन का भार प्रतिशत कहलाती है।

अवयव A का विलयन में भार प्रतिशत =

WA + WB x 100

उदाहरणार्थ- 10 ग्राम शक्कर को 90.0 ग्राम जल में घोलने पर जो विलयन बनता है उसे 10% w/w शक्कर का विलयन कहते हैं। संक्षेप में इसे 10% w/wलिखा जाता है।

(ii) मोललता (Molality):- m- 1000 ग्राम (एक किलोग्राम) विलायक में घुले हुए विलेय के मोलों की संख्या को विलयन । की मोललता कहते हैं। इसे m से प्रदर्शित करते हैं।

मोललता (m) = विलेय के मोलों की संख्या / विलायक का भार ग्राम में
SI मात्रक में इसकी इकाई मोल प्रति किलोग्राम (mol kg-l) होती है।

(iii) मोल भिन्न (Mole Fraction)- विलयन में उपस्थित किसी एक अवयव की मोल भिन्न विलयन में उपस्थित उस अवयव के मोलों की संख्या (ग्राम अणुओं) तथा विलयन में उपस्थित सभी अवयवों के मोलो की कुल संख्या का अनुपात होता है।


विलयन से सम्बंधित नियम

हेनरी का नियम (Henry’s Law)

विलेयता पर दाब का प्रभाव-हेनरी का नियम (Effect of Pressure on Solubility of gases-Henry’s law)- विभिन्न दाबों पर गैसों की विलयेता का अध्ययन कर हेनरी ने 1803 में एक नियम प्रतिपादित किया जिसे हेनरी का नियम (Henry’s law) कहते हैं।

इस नियम के अनुसार :- स्थिर ताप पर विलायक के किसी दिए हुए आयतन में घुली हुई गैस की मात्रा साम्यवस्था पर उस पर डाले गए दाब के समानुपाती होती है। यदि गैस विलायक से कोई रासायनिक क्रिया न करें।


विलयन के उदाहरण

विलयन किसे कहते हैं या विलयन की परिभाषा क्या हैं? इत्यादि से सम्बंधित महत्वपूर्ण Vilayan के उदाहरण यहाँ दिए गए हैं।

1. निलंबन क्या है ?

वह विषमांगी घोल जो ठोस द्रव में परिक्षेपित हो जाता है। निलंबन कहलाता है।

निलंबन के गुण :-

  • यह एक विषमांगी मिश्रण होता है।
  • विलेय पदार्थ के कण घुलते नहीं बल्कि माध्यम की तली में निलंबित रहते है।
  • आँखों से कण देखे जा सकते हैं।
  • भौतिक विधियों द्वारा पृथक किया जा सकता हैं।

2. कोलाइडल (कोलाइडी) विलयन किसे कहते हैं?

पिछली कक्षाओं में हमने कोलाइडल (कोलाइडी) विलयन के बारे में पढ़ा है। तो चलिए यहाँ विस्तार से जानते हैं
की कोलाइडल (कोलाइडी) विलयन किसे कहते हैं?